• Home
  • Astrology and Spirituality

कैसा रहेगा आपका आज का दिन, जानिए अपना राशिफल

Posted:2017-02-17 08:01:03 IST
Text resize: A+ A-

जयपुर। आज शुक्रवार, दिनांक 17 फरवरी 2017 है। तिथि : षष्ठी नन्दा संज्ञक तिथि प्रात: 9.26 तक, तदुपरान्त सप्तमी भद्रा संज्ञक तिथि रहेगी। षष्ठी तिथि में पितृकर्म, काष्ठकर्म व यात्रा को छोड़कर युद्ध, गृहारंभ आदि शुभ कार्य तथा सप्तमी तिथि में समस्त शुभ व मांगलिक कार्य, विवाह, संगीत, यात्रा, गृहप्रवेश, उपनयन व वधू आमंत्रण आदि विषयक कार्य शुभ कहे गए हैं। योग: वृद्धि नामक योग सायं 7.38 तक, तदन्तर ध्रुव नामक शुभ योग हैं। दोनों ही नैसर्गिक शुभ योग हैं। विशिष्ट योग: दोष समूह नाशक रवियोग नामक शक्तिशाली शुभ योग सूर्योदय से सायं 4.18 तक है। करण: वणिज नामकरण प्रात: 9.26 तक, इसके बाद रात्रि 10.36 तक भद्रा है। भद्रा में शुभ व मांगलिक कार्य यथासंभव टाल देने चाहिए।


शुभ मुहूर्त : आज स्वाती नक्षत्र में विवाह का (केतुवेध दोषयुक्त), गृहारंभ का (केतुवेध) दोषयुक्त व भद्रा दोष गृहप्रवेश (दोषयुक्त) तथा वधू-प्रवेश, द्विरागमन, नामकरण, चूड़ाकरण, अक्षरारम्भ व विद्यारम्भ आदि शुभ मुहूर्त है। श्रेष्ठ चौघडि़ए: आज सूर्योदय से पूर्वाह्न 11.17 तक क्रमश: चर, लाभ व अमृत, दोपहर 12.41 से दोपहर बाद 2.05 तक शुभ तथा सायं 4.52 से सूर्यास्त तक चर के श्रेष्ठ चौघडि़ए हैं एवं दोपहर 12.18 से दोपहर 1.03 तक अभिजित नामक श्रेष्ठ मुहूर्त है, जो आवश्यक शुभकार्यारंभ के लिए अत्युत्तम हैं।


व्रतोत्सव: महापात सायं 4.20 से रात्रि 11.40 तक। इस पात में शुभ व मांगलिक कार्य शुभ नहीं रहतेे। पर स्नान, दान-पुण्यादि कार्य शुभ रहते हैं। दिशाशूल: शुक्रवार को पश्चिम दिशा की यात्रा में दिशाशूल रहता है। पर तुला राशि के चंद्रमा का वास पश्चिम दिशा की यात्रा में सम्मुख होगा। यात्रा में सम्मुख चंद्रमा धनलाभ कराने वाला व शुभ माना गया है। चन्द्रमा: चन्द्रमा संपूर्ण दिवारात्रि तुला राशि में रहेगा। बुधास्त पूर्व में अंतरात्रि सूर्योदय पूर्व प्रात: 6.10 पर। राहुकाल: प्रात: 10.30 बजे से दोपहर 12.00 बजे तक राहुकाल वेला में शुभकार्यारंभ यथासम्भव वर्जित रखना हितकर है। जानिए अगली स्लाइड में आज कैसा रहेगा आपका दिन।

राजस्थान पत्रिका एंड्राइड और आई फ़ोन एप डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Next Slide
कैसा रहेगा आपका आज का दिन, जानिए अपना राशिफल
X