श्रीनाथजी प्रभु नाथद्वारा से पहले यहां हुए थे प्रकट,  पढ़िए सम्पूर्ण  प्राकट्य गाथा 

Posted:2017-06-19 14:45:29 IST
Text resize: A+ A-

विक्रम संवत् १४६६ ई. स. १४०९ की श्रावण कृष्ण तीज रविवार के दिन सूर्योदय के समय श्री गोवर्धननाथ का प्राकट्य गिरिराज गोवर्धन पर हुआ। यह वही स्वरूप था जिस स्वरूप से इन्द्र का मान-मर्दन करने के लिए भगवान्, श्रीकृष्ण ने ब्रजवासियों की पूजा स्वीकार की और अन्नकूट की सामग्री आरोगी थी। श्री गोवर्धननाथजी के सम्पूर्ण स्वरूप का प्राकट्य एक साथ नहीं हुआ था पहले वाम भुजा का प्राकट्य हुआ, फिर मुखारविन्द का और बाद में सम्पूर्ण स्वरूप का प्राकट्य हुआ।

राजस्थान पत्रिका एंड्राइड और आई फ़ोन एप डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Next Slide
श्रीनाथजी प्रभु नाथद्वारा से पहले यहां हुए थे प्रकट,  पढ़िए सम्पूर्ण  प्राकट्य गाथा 
X