नई दिल्ली ।

शेवरले ब्रांड की कार बनाने वाली कंपनी जनरल मोटर्स की मुश्किलें बढ़ती जा रही है। कंपनी ने साल के अंत तक भारत में कारें नहीं बेचने का फैसला लिया। जिसके बदले कंपनी ने डीलर्स को बहुत ही कम मुआवजे की पेशकश की गई, जिसके चलते डीलर्स ने अब कंपनी को अदालत में घसीटने का फैसला किया है। जनरल मोटर्स के भारत के अधिकांश डीलर्स कंपनी के खिलाफ अमरीका के कोर्ट में मुकदमा करने की तैयारी में है। 



क्यों नाखुश हैं डीलर्स 

भारत के करीब 140 शोरूम को ऑपरेट करने वाले 96 डीलर्स में से अधिकांश डीलर्स कंपनी के इस ऑफर से खुश नहीं है। डीलर्स को कंपनी की ओर से टोटल इन्वेस्टमेंट का केवल 12 फीसदी हर्जाना देने का ऑफर दिया 

गया है।   



क्या है इंडस्ट्री की मांग

फेडरेशन ऑफ ऑटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन के प्रेसिडेंट जॉन पॉल कुट्टूकरन ने बताया कि करीब 50 डीलर्स हमारे पास सपोर्ट मांगने आए हैं।  हम अमरीका में मुकदमा दायर करने का मन बना रहें है। जीएम एक बड़ी कंपनी है और हमें पहले इस कदम की व्यवहारिकता के बारे में देखना होगा, अगर संभव हुआ तो हम यह कदम उठाएंगे।