जयपुर ।

लग्जरी कार निर्माता कंपनी रॉल्स रॉयस ने कथितरूप से दुनिया की सबसे महंगी कार ‘स्वेपटेल’ को पेश किया।  1920 से लेकर अब तक बनी रॉल्स रॉयस की तमाम कारों से प्रभावित 84 करोड़ रुपए कीमत वाली इस कार का केवल एक पीस ही बनाया गया है। शनिवार 27 मई को इटली में आयोजित सालाना ऑटो शो कॉन्कॉर्सो डी'एलीगेंजा विला डे'एस्टे में रॉल्स रॉयस ने मीडिया के सामने अब तक की सबसे महंगी कार से पर्दा उठाया। 



इस दौरान रॉल्स रॉयस मोटर के सीईओ टॉर्सटेन म्युलेर ओट्वोज ने कहा कि वाकई में स्वेपटेल एक शानदार कार है।  यह खुद से आपको इसे चलाने के लिए उकसाती है।  पिछले साल 103EX को लाकर हमने भविष्य को लेकर एक रोशनी की किरण दिखाई थी और आज स्वेपटेलएक सबूत है, कि कंपनी कोच निर्माण के शिखर पर है। हम अपने सबसे विशेष ग्राहकों को सुन रहे हैं और इस तरह की एक्सक्लूसिव मास्टरपीस बनाने में उनके निवेश का आकलन कर रहे हैं। दुनिया की सबसे महंगी कार के एक्सटीरियर को रॉल्स रॉयस के विंटेज मॉडल्स की डिजाइन ध्यान में रखते हुए बनाया गया है।  



कार की फ्रंट ग्रिल एल्युमीनियम से बनी हुई है और इनपर की गई मिरर या क्रोम फिनिश इसे बहुत शानदार बनाती है, जबकि कार की साइड बॉडी भी कुछ अलग लुक देती है।   आगे से पारंपरिक रॉल्स रॉयस का मजबूत दमदार लुक और पीछे से बिल्कुल अलग स्टाइल की डिजाइन। पीछे से कार को देखने पर यह अलग ही अंदाज में नजर आती है। पुरानी रॉल्स रॉयस लग्जरी कारों की डिजाइन को ध्यान में रखते हुए इसकी स्टाइल और काफी ज्यादा बड़ा पैनारोमिक सनरूफ जो आगे से लेकर पिछली सीट के पीछे तक आते हुए पतला हो जाता है, इसे कई बार देखने पर मजबूर करता है। इसका सनरूफ अब तक की कंपनी की कारों में से सबसे बड़ा है।  



चूंकि यह कार विशेष फरमाइश पर बनाई गई है इसलिए इसमें ऑर्डर देने वाले के हिसाब से हर छोटी से छोटी और बड़ी बात का ध्यान रखा गया है। इसके चलते इसके केबिन में डैशबोर्ड काफी खाली नजर आजात है और बाजार में आने वाली तमाम कंपनियों की तरह यह बहुत ज्यादा भरा-भरा नहीं लगता। इसके डैशबोर्ड में एक टाइटैनियम क्लॉक बिल्कुल सामने की ओर लगाई गई है। कार के इंटीरियर को मैकेस्सार इबोनी वुड और पाल्डो वुड से बनाया गया है। जबकि सीटों, आर्म रेस्ट और डैशबोर्ड में मोकैजिन और डार्क स्पाइस लेदर का इस्तेमाल किया गया है।



भारी-भरकम और ताकतवर 6.75 लीटर V-12 इंजन इसे जबर्दस्त रफ्तार और पॉवर देता है। दुनिया की सबसे जुदा और विशेष रूप से बनाई गई कारों में इसे सबसे बेहतरीन बताया जा रहा है। कार के निर्माण का ऑर्डर देने वाले व्यक्ति की मांग पर इस कार को तमाम तरह से कस्टमाइज किया गया और कार के निर्माण के तमाम चरणों के दौरान हर वक्त वह ग्राहक इसके सामने रहा। कार का ढांचा Rolls Royce Phantom VII कूपे के एल्यूमीनियम स्पेस फ्रेम डिजाइन पर बनाया गया है। कंपनी के डिजाइन डायरेक्टर गिल्स टेलर के मुताबिक, यह कार एक विशेष ग्राहक के लिए डिजाइन और हाथ से तैयार की गई। यह ग्राहक कंपनी में एक आइडिया लेकर आए थे और उन्होंने अपनी ख्वाहिश बताई, जिसे हमने पूरा किया।