नई दिल्ली। ।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कैबिनेट के तीन अहम मंत्री एक छोटी सी गलतफहमी के चलते 'थ्री इडियट्स' बन गए। एक वाकये के बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली, ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल और पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने इस विश्लेषण से खुद को नवाजा है। 




हुआ यूं कि हाल ही में जेटली दिल्ली स्थित विज्ञान भवन में चल रही एक अंतरराष्ट्रीय कांफ्रेंस में थे कि तभी संस्कृति मंत्री महेश शर्मा की बेटी उनके पास पहुंची। उसने बेहद मायूस स्वर में जेटली से कहा कि 'निर्मला' उनके पिता के नोएडा के कैलाश अस्पताल में आईसीयू में भर्ती हैं और उनकी हालत बहुत ही नाजुक हैं।




यह सुनते ही जेटली ने सोचा कि वाणिज्य व उद्योग मंत्री निर्मला सीतारमण से तो कुछ दिनों पहले ही वह मिले थे, तब तो वे स्वस्थ लग रही थीं। जेटली सोच में डूब गए कि न जाने निर्मला सीतारमण को अचानक क्या हो गया कि उन्हें आईसीयू में भर्ती कराना पड़ा।  जेटली, पीयूष गोयल और धर्मेंद्र प्रधान के साथ फौरन ही अस्पताल के लिए निकल गए। रास्ते में ही तीनों को पता चला कि केंद्रीय मंत्री निर्मला नहीं, बल्कि उनकी नौकरानी निर्मला अस्पताल में भर्ती है।




नोएडा बॉर्डर पर आया पत्नी का फोन

तीनों दिल्ली नोएडा के बोर्डर पर पहुंचे ही थे कि जेटली को उनकी बीवी संगीता जेटली का फोन आ गया। संगीता ने जेटली से कहा कि जल्दी से घर आ जाइए कोई आपसे मिलने के लिए इंतजार कर रहा है। जेटली ने संगीता से कहा कि अभी हम निर्मला सीमारमण से मिलने अस्पताल जा रहे हैं। यह सुनने के बाद संगीता समझ गईं कि तीनों मंत्रियों को गलतफहमी हुई है क्योंकि अस्पताल में उनकी कामवाली भर्ती है जिसका नाम भी निर्मला है, न कि निर्मला सीतारमण। 




सीतारमण ने पूछा, क्यों नहीं मिले?

जब इस गलतफहमी के बारे में निर्मला सीतारमण को पता चला तो उन्होंने गोयल और प्रधान से पूछा कि वे उनसे वापस क्यों नहीं मिले। इसका जवाब देते हुए दोनों मंत्रियों ने कहा कि उस समय हम तीनों '3 इडियट्स' जैसे लग रहे थे।