चारदीवारी ही नहीं बाहरी बाज़ारों भी रहते हैं लोगों से गुलज़ार, देर शाम तक रहते हैं गुलज़ार