पाली.  उपखंड मुख्यालय पर स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर पिछले दिनों चिकित्सा विभाग के संयुक्त निदेशक संजीव जैन व अस्पताल में कार्यरत डॉ. एसपी पालीवाल के बीच निरीक्षण को लेकर विवाद हो गया। जानकारी है कि संयुक्त निदेशक संजीव जैन रोहट अस्पताल में निरीक्षण के लिए आए थे। इस दौरान अस्पताल में एक भी कर्मचारी मौजूद नहीं मिला। इस पर संयुक्त निदेशक जैन अस्पताल में कार्यरत्त डॉ. एसपी पालीवाल के घर पर पहुंच गए। इस दौरान दोनों के बीच अस्पताल के नियमों को लेकर तकरार भी हुई। इसके एक दिन बाद ही डॉ. पालीवाल को जालोर के सांचोर में लगाने के आदेश जारी कर दिए। गौरतलब है कि डॉ. पालीवाल रोहट अस्पताल में शिशु रोग विशेषज्ञ के पद पर कार्यरत हैं। इस विवाद को लेकर दोनों ने एक दूसरे पर आरोप लगाए हैं।

- कु छ दिन पहले संयुक्त निदेशक संजीव जैन मेरे घर का निरीक्षण करने आए और मेरे साथ दुव्र्यवहार करते हुए कहा कि सिस्टम चालू कर दे नहीं तो पछताएगा, मैंने मना किया तो मुझे एपीओ करने की धमकी दी। मेरे घर पर बिजली के तार और अन्य वस्तुओं के साथ छेडछाड भी की।

- डॉ. एस पी पालीवाल

- मैं रोहट हॉस्पिटल का निरीक्षण करने सुबह 8.55 बजे अस्पताल पहुंचा। वहां पूरा स्टॉफ गायब मिला। इसके बाद मैं पाली चला गया था। वापस पाली से 1 बजे आया तो डॉ. एसपी पालीवाल के घर गया। वे अपने कार्य में व्यस्त थे। अब उन्हें सांचौर में चिरायु योजना में लगाया गया है।

- डॉ. संजीव जैन, संयुक्त निदेशक

- व्यापार मंडल के ज्ञापन के बाद जिला कलक्टर और सीएमएचओ से वार्ता कर चिकित्सक को रिलीव करने पर रोक लगा दी।

- अजय चारण, उपखंड अधिकारी, रोहट