श्रीगंगानगर. 


दिल्ली से श्रीगंगानगर और श्रीगंगानगर से जयपुर के लिए प्रस्तावित हवाई सेवा के लिए हवाई पट्टी पर उपलब्ध होने वाली व्यवस्थाओं के संबंध में शुक्रवार को जिला कलक्टर ने संबंधित विभागों के अधिकारियों से चर्चा की और उन व्यवस्थाओं पर खर्च होने वाली राशि का ब्यौरा देने के निर्देश दिए। श्रीगंगानगर को हवाई सेवा से जोडऩे के लिए मैसर्स सुप्रीम एयर लाइंस आगे आई है। इस निजी एयरलाइंस कम्पनी की ओर से हवाई पट्टी पर जरूरी व्यवस्थाओं की जानकारी मांगे जाने पर नागरिक उड्डयन विभाग ने कलक्टर से व्यवस्थाओं से संबंधित विभागों के अधिकारियों से चर्चा कर स्टेट्स रिपोर्ट भिजवाने का कहा है। कलक्टर शनिवार को व्यवस्था से संबंधित विभागों के अधिकारियों के साथ लालगढ़ हवाई पट्टी का निरीक्षण करेंगे।


अब प्राइवेट बसों के हवाले श्रीगंगानगर-बीकानेर वाया सूरतगढ़ रूट, रोडवेज प्रबंधन ने खड़े किए हाथ



हवाई सेवा उपलब्ध करवाने वाली एयरलाइंस कम्पनी ने हवाई पट्टी पर सुरक्षा, फायर ब्रिगेड, एम्बुलेंस और पानी बिजली की सुविधा के बारे में जानकारी मांगी है। जिला कलक्टर ज्ञानाराम ने बताया कि संबंधित विभागों को चाही गई व्यवस्थाओं के लिए तैयारी करने और इसके बदले में ली जाने वाली राशि का ब्यौरा देने का कहा है। उन्होंने बताया कि व्यवस्थाओं की पूर्ति होने पर एयरलाइंस कम्पनी अगस्त में हवाई सेवा शुरू कर सकती है। फिलहाल एयरलाइंस कम्पनी का विमान दिल्ली से श्रीगंगानगर आएगा और बाद में यही विमान श्रीगंगानगर से जयपुर के लिए उड़ान भरेगा।


जिले में बिछेगा 112 किमी सड़कों का जाल



विस्तार के लिए राशि


लालगढ़ हवाई पट्टी के विस्तार पर 28 करोड़ रुपए व्यय होंगे। इसमें से 4 करोड़ रुपए नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने उपलब्ध करवा दी है। जिला कलक्टर ने बताया कि वर्तमान में लालगढ़ हवाई पट्टी की लंबाई 1300 मीटर है, जिस पर छोटे विमान आसानी आवागमन कर सकते हैं। हवाई पट्टी का विस्तार भविष्य की जरूरतों के अनुसार किया जाएगा। इसके लिए और भूमि अवाप्त की जाएगी।