सेन फ्रांस्सिको। ।

अमरीका के ओहियो प्रांत के क्लीवलैंड में एक व्यक्ति की हत्या का लाइव वीडियो अपलोड किए जाने के बाद विश्व का सबसे बड़े सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म 'फेसबुक' अपनी वेबसाइट पर डाली जाने वाली हिंसक और अन्य आपत्तिजनक सामग्रियों से निपटने के लिए उठाए जाने वाले कठोर कदमों की गहन समीक्षा में जुट गया है। 



फेसबुक के ग्लोबल ऑपरेशन एवं मीडिया पार्टनरशिप के उपाध्यक्ष जस्टिन ओसोस्की ने एक बयान में कहा कि उनकी टीम कुछ इस तरह के कदम उठाने की दिशा में काम कर रही है जिससे ऐसे वीडियो डाले जाने के तुरंत बाद इसकी जानकारी सार्वजनिक हो सके और घटना स्थल, अपराधी और  असामाजिक तत्वों की पहचान करके उन पर नकेल कसे जाने को लेकर यथाशीघ्र हरकत में आया जा सके। 



इसके साथ ही यह रास्ता सुगम बनाए जाने का प्रयास किया जाएगा कि फेसबुक से जुड़े लोग ऐसे मामलों को शीघ्र अति शीघ्र उचित मंच पर सूचित कर सकें। 



उन्होंने कहा, 'हम फेसबुक समुदाय की सुरक्षा के मसले को विशेष महत्व देते हैं।'



उपाध्यक्ष ने कहा, 'हर सप्ताह 40 से अधिक भाषाओं में नियमों का उल्लंघन करते हुए फेसबुक पर आपत्तिजनक सामग्रियां डाली जाती हैं और हमारे सैकड़ों कर्मचारी इनकी समीक्षा करते हैं। क्लीवलैंड हत्या कांड का पता चलने के 23 मिनट के अंदर हमने संदिग्ध का फेसबुक अकाउंट बंद कर दिया। हम इस दिशा में और बेहतर एवं तेजी के साथ काम करना चाहते हैं।'



उन्होंने कहा कि संदिग्ध ने तीन वीडियो अपलोड किए थे। पहले में कहा था कि वह किसी की हत्या करना चाहता है। लेकिन फेसबुक के किसी यूजर ने इसकी रिपोर्ट नहीं की। 



गौरतलब है कि स्टीव स्टीफेंस नाम के व्यक्ति ने रविवार को फेसबुक पर लाइव वीडियो अपलोड किया था जिसमें वह अपनी कार से उतरते हुए कहता है कि वह आज किसी की हत्या करने जा रहा है और इसके बाद एक व्यक्ति की गोली मार कर हत्या किए जाने का वीडियो सामने आता है। 



पुलिस फिलहाल अपराधी तक नहीं पहुंच सकी है। यह वीडियो दो घंटे तक सोशल साइट पर वायरल होता रहा जिसके बाद मारे गए 70 वर्षीय व्यक्ति के पौत्र ने ट्वीट करके लोगों से इस वीडियो पर विराम लगाने का आग्रह किया। 



उसने ट्वीट किया, 'वह मेरे दादा जी थे, कृपया आदर दें, इस वीडियो पर विराम लगाएं। '