लखनऊ ।

यूपी का मुख्यमंत्री बनने के बाद पहले दिन सोमवार को योगी आदित्यनाथ ने डीजीपी जावीद अहमद से मुलाकात की। उन्होंने डीजीपी को सतर्क रहने तथा प्रदेश में अपराधों पर लगाम लगाने के लिए योजना बनाने के लिए कहा है। गौरतलब है कि सीएम योगी आदित्यनाथ के पद संभालते ही यूपी में बसपा नेता की हत्या हो गई है। प्रदेश में अपराधों की रोकथाम एक बड़ी चुनौती है। 




शपथ लेने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि उनकी सरकार सभी वर्गों के कल्याण के लिए तथा बिना किसी भेदभाव के काम करेगी। वहीं सूत्रों का कहना है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इलाहाबाद में बसपा नेता की हत्या पर चिंता व्यक्त की है। उन्होंने डीजीपी से मुलाकात कर सभी जिलों के पुलिस अधिकारियों से बातचीत करने तथा 15 दिनों में सशक्त व बेहतर पुलिस व्यवस्था कायम करने का ब्लूप्रिंट तैयार करने के लिए कहा है।




सीएम योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को यूपी के शीर्ष प्रशासनिक अधिकारियों से मुलाकात की। सूत्रों के अनुसार वे सभी विभागों के प्रधान सचिवों से भी मुलाकात करेंगे। 




मुख्यमंत्री ने रविवार को सभी मंत्रियों को अपनी संपत्ति का ब्योरा 15 दिनों में सार्वजनिक करने के लिए भी कहा था। इसे भ्रष्टाचार के प्रति उनके सख्त रुख से जोड़कर देखा जा रहा है। 




साथ ही सभी मंत्रियों को यह नसीहत दी गई है कि यूपी सरकार के प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा तथा सिद्धार्थनाथ सिंह के जरिए ही मीडिया से बात करें। इसी बीच नौकरशाहों के तबादलों की चर्चा भी है।